बूबपिक्स

सलाम किया । |
वेगस- आज का इकरार है न ?
दारोगा-हाँ हुजू र, खुदा मुझे सुर्जह करे। भकारदसी का नाम
सुनक्वर तो वद्द बेखुद ऐो गए। क्‍या शर्ज कहो हुनर !
बैगम-अ्रभी जाइए कौर चारों तरफ़ तलाश फीजिए।
दारोगा--हुजूर, ज़रा सबेरा तो हो ले, दो-चार झादमियों से मिहेँ,
एछ-बूछँ तथ तो मतलब निकले । यों वटश्करलैस किस सुहस्ले में माऊँ
और किससे पूछ ? ;
भव्बासी--हुज़ूर, सुके हुस्‍्म हो तो में भी दराश करें। सगर
भारी-सा जोड़ा छूँगी।
बेगम--जोड़ा | अष्छाह जानता है सिर से पाँव तक जेवर से छदी होगी।
'बीअब्बासी घन ठवकर चलीं ओर उधर दारोग़ाजी मियाने पर रूद-
कर रवाना हुए । भ्रव्यासी तो खुश-खुश जाती थी झोर यई सुंद्ट बनाएं
सोच रहे थे कि जाऊँ तो कहाँ जाऊँ ? * भ्रव्वयापी छहेँगा फड़ेकाती हुई
चली जांती थी कि राह में एक मदाबमाहब की एक सहरी मिली। दोनों
में घुल-घुलकर बातें होने लगीं ।* " 7
भव्यासी-कहो घन, खुश तो हों।। ५ ७ »४ कह,
) ई
शैधसइुलाया प्ह पे
बस्त-हाँ यह, भराष्पह शा फापछ है श्ए शा
ऋष्यासीनलुए मदर हइत, पा हाहए का पणा सशती:
फिस्मी हैँ।
पद >कीम ऐड सी सधर्ते :
हप्यासी-नयद सो मी शानतो +गाह दे मियां आणाद। खासे
धवम पंयान £।
धन्तु आर में एएय तानती । इस्री शदर के राणनेयाएँ हैं।
मगर हैं बडे मटगट, सामने ही तो रहने है। छई्ठी रोकी को गध्ीं हो ?
हैं ज्षो जदाम ऐसा ही ।
ऋअब्यामी--ऐ, इसे भो ! घट दिबट्गी इसे मी सापी ।
परत “जी, यह मफान था गया (इस, हैसी में रहते कई | गोद ने
जाता, अज्वाए-मिर्मा से गासार ।
पन्नू सो झपनो राह गई, सम्याती पृद्ठ मही हैं दोफर युक्त सटिया
के मझान पर पहुँची । झुड्धिया में एह्रा+बयव किए सरेझार में हो सी *
कंप्रामी--सुरैयाैगम के या ।
बुदिया-झीर इससे मिर्धा का क्या सास £ ?
अच्चासी«ज्जों छजपीम करो ।
बुट़ियानलों प्यारी है या येता हैं कीर्द जानन्यइईचान शुदाफागी ऐ
याकोईनहीएी
कप्ताली--प शुद्दी-पी मौत कभी फ्ी ऋापा फ्री हैं । घीर थो
इमने फिसी को झाने-आते नहों देखा । ४
बुउिवा-+कोई देपजझाए सी शाता-जासा | ?
ग्रदयासी--स्या मजाछ ! बिड्चिया तक शो पर नहीं मार पझती ?
इतने दिनों में सिर्फ कक तमाशा ठेसने गई थीं
णज६२ आज़ाद-कधा
बुढ़िया--ऐ छो, भोर सुनो | तमाशा देखने जाती हैं शोर फिर
कहती ऐो कि ऐसी-वैती नहीं हैं । शच्छा, एस टोह छा लेंगी ।
झअव्पासी--उन्हें।ने तो कप्तम खाई है कि शादी ही न फर्रुगी,' और
प्पगर करूंगी भी तो एक खूबस्रत जवान के साथ जो धापका पडोंसी
है। पियाँ चाजादं नाम है । बम
बुढ़िया--भरे, यह छितनी बड़ी बात है ! यो मैं; वहाँ ,धहुद कस
श्राती-जाती हूँ पर वह झुमे खूब जानते है। विलकुछ घर का-सा वास्ता
है। तुम बेठो, में अभी जादमी सेमती हूँ।
यह कहकर उदढ़िया ने एक झीरत्त को घखुलछाकर कहा--छोटे मिरज्ञा के
पास जाओ ओर कही कि श्रापक्ो छुलाती हैं । या तो हमको, घुलाइए
या खुद जाहए। कं
इस करत का नाम मुबारक कदम था। उसने जाकर मिर्जा आजाद
को बुढ़िया का पैगाम सुनाया । हुज्ूर, चद् खबर सुना कि आप भी
फसहक जाये । सगर इनाम देने का वादा कीजिए । * |
श्राजादु--आजाद नहीं, क्रगर मालासारून कर दें । ।
मुबारक--उछल पड़िएगा।
श्राज़ाद-+क्या कोई रक़म मिलनेवाली है ?,
मुपारक--अजी, वह रफम मिले कि मवबाब हो जाओो। एक वेगम-
साहब ने पैगाम भेजा है । बस, आप मेरी छुढिया के मकान तक चले
चलिए । गा ना
ह श्राज़ाइ--उनको यहीं न बुला लाझो। न
मुवारकर-सें वेडी हूँ, भाप चुलवा लीजिए 7. , -
थोड़ी देर में बुढ़िया एक डोली पर सवार शञ्रा पहुँची ग्रीर घोली--
है
* क्या इरादे हैं ? कब घलिएगा ?/ का
दधाएगार-ह दा ध्स्ट्द
]
शाज़ाइन-पटले बाप बाप को दशारी । इसीत गिर |,
मुदिया-हती, जुस्त तो छह हैं दि हद भी साय ही जाके, हर
हीझत का सो कोरी दिशातगा हहीं थो कप पते का इरादा | ?
धापादलआइले सूद परकानयों:र चरुतणे, शो हुसि रे कदों । दावा
में हो दि यहाँ छोटशर मेखना पं ।
* ओआततठती प्रिषछ
हमारे थिमाँ दाद ही ए्पचप्रत द शिया में माग में पिता चोर
फोई बात गहीं हि एसी गो) इक जिफमे ही हिजे/, इग्रामदार, शएये
आदगी थे इतने ही यह फरेगी, जाखिए सीर परुशीएव परे १ माल्य शाह
हार हा थे नहीं, मगर खा सी शपदे पक्षी से छे मिलें थे । डवेणा हम,
में की्श आअजी गे मे पिघ्लेंडार, परफे फिरे के गज्माश, चोरों थी फीग, इणा
च्क्पं
गाशों के सगोडदिएवार, टाइओं के शोप्त, गिरूदज के छाधी । फियी की
णाम छेगा इसके आए हाथ देठ काय था ) रिप्सोते दोडी की, शमी को
गरदन छाटी । धरमीर से मिलनुरकर रहना और मारी घुएफीनकड्फी
सहना। इनएा खास प्रैजशञा था । छैफिद घ्िसके यहाँ दसफ पाया, इपकी
या तो ऊँगोदी परैधदा शी या छठ छिलके लगा हुंम | शार के गष्टायम
कौर साह फार इनसे धरथर काविपे पते । घिस महाजन से झो माँसा,
इसने हाशिर किया झीर जो हलबार किया सो हुसरें रोज छोटो ही गई ।
इनके मिनाय की क्मव क्रेकियत थी । पच्चे से बच्चे, सड़ीं में गटे,
जवानें। में जधान । फ्ोई यात ऐसी नहीं जिमका इन्हें तंगर्या न हों। एक
साल सके छोड में भी नौकरी की धी। पहाँ थापने एफ दिन सद दिएलगी
की कि रिसाछे के बीस धोड़ों की अग्राद़ी-विछादी खोछ डाली । धीएँ हिन-
हिलाकर छड़ने छगें। सब छोग पढ़ें सो रहे श। धोडे जो खुले, तो सय-फ्े-
०६४ चझाज़ाद-कथधा
सब चौक पढे । एक योला--लेना-लेना ! चोर-चोर [पकड़ लेना ! ज्ञामे न
पाण। बड़ी मुशकिल से चन्द घोड़े पकड़े गये । कुछ जखमी हुए, कुछ
भाग गये । अब चदकीकात शुरू हुईं। आजाद मिरजा सी सबके साथ
हमदर्दी करते थे कोर उस बदमाश पर बिगड़ रहे थे जिसने घोड़े छोड़े

  • सेक्स करते हुए इंग्लश वडय
  • डार्क निपल्स ट्यूब
  • सेक्स करते हुए इंग्लश वडय
  • सेक्स करते हुए वडय दजए
  • लैट्रन करते हुए सेक्स
  • छट लड़क के सथ सेक्स करते हुए दखइए
  • किशोर टाइटन्स हेनतई
  • छट लड़क के सथ सेक्स करते हुए दखइए
  • दासी पोर्न
  • ऊसेट
  • देसी मल फोटो
  • छट लड़क के सथ सेक्स करते हुए दखइए
  • युकी नागातो
  • किशोर टाइटन्स हेनतई
  • गूगल क्य तुम सेक्स कर सकत ह
    दासी पोर्न
    मुक्त कोरियाई xxx
    अजनबी के साथ सेक्स xnxx
    सेक्स करते दखईये
    सेक्स सेक्स करने वल लड़क
    किशोर टाइटन्स हेनतई
    डार्क निपल्स ट्यूब
    लड़क सेक्स करने वल वडय
  • दासी पोर्न
  • किंगइंडिया में
  • भाई और बहन की सेक्सी कहानी
  • गूगल क्य तुम सेक्स कर सकत ह
  • दासी पोर्न
  • किशोर टाइटन्स हेनतई
  • युकी नागातो
    आदवस सेक्स वडय जंगल में करते हुए
    xxx कानूनी
    युकी नागातो
    आदवस सेक्स वडय जंगल में करते हुए
    सेक्स नहं करने के नुकसन
    डार्क निपल्स ट्यूब
    लैट्रन करते हुए सेक्स
    xxx कानूनी